Current Affairs in Hindi 2021

07 Aug 2021 Current Affairs in Hindi

राष्ट्रीय

खेल रत्न पुरस्कार का नाम हुआ मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने घोषणा की है कि राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार (Rajiv Gandhi Khel Ratna Award) का नाम बदलकर मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार (Major Dhyan Chand Khel Ratna Award) किया जाएगा।

प्रधान मंत्री ने कहा कि यह कदम देश भर से प्राप्त कई अनुरोधों पर आधारित था। ध्यानचंद (Dhyan Chand), जिनके जन्मदिन को राष्ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day) के रूप में मनाया जाता है, ने हॉकी में देश के लिए तीन ओलंपिक (Olympic) स्वर्ण जीते।

इस पुरस्कार का उद्घाटन 1991-92 में हुआ था, इस पुरस्कार में एक पदक (medallion), एक प्रमाण पत्र (certificate) और रु 25 लाख का नकद पुरस्कार (cash prize) शामिल है।

खेल रत्न (Khel Ratna) के पहले प्राप्तकर्ता शतरंज के दिग्गज विश्वनाथन आनंद (Viswanathan Anand) थे। हाल के वर्षों में कुछ विजेताओं में क्रिकेटर रोहित शर्मा (Rohit Sharma), पहलवान विनेश फोगट (Vinesh Phogat), महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल (Rani Rampal) सहित अन्य शामिल हैं।

भारत की परमाणु ऊर्जा क्षमता 2031 तक 22,480 मेगावाट तक पहुंचने की उम्मीद

भारत की परमाणु ऊर्जा क्षमता (nuclear power capacity) मौजूदा 6,780 मेगावाट से 2031 तक 22,480 मेगावाट तक पहुंचने की उम्मीद है। वर्तमान में 6780 मेगावाट की कुल क्षमता वाले 22 रिएक्टर प्रचालन (operation) में हैं और एक रिएक्टर, केएपीपी-3 (700 मेगावाट) को 10 जनवरी, 2021 को ग्रिड से जोड़ा गया है।

8000 मेगावाट क्षमता वाले दस (10) परमाणु ऊर्जा रिएक्टर (nuclear power reactors) (भारतीय नाभिकीय विद्युत निगम लिमिटेड {Bharatiya Nabhikiya Vidyut Nigam Limited {BHAVINI} द्वारा कार्यान्वित किए जा रहे 500 मेगावाट पीएफबीआर सहित) निर्माणाधीन हैं। 

इसके अतिरिक्त, सरकार ने फ्लीट मोड (fleet mode) में स्थापित किए जाने वाले प्रत्येक 700 मेगावाट के दस (10) स्वदेशी दबाव वाले भारी पानी रिएक्टर (Pressurized Heavy Water Reactors-PHWRs) की प्रशासनिक स्वीकृति और वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है।

अंतर्राष्ट्रीय

जर्मनी ISA फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर करने वाला 5वां देश बना

संयुक्त राष्ट्र (United Nation) के सभी सदस्य राज्यों के लिए अपनी सदस्यता खोलते हुए जर्मनी (Germany) 8 जनवरी 2021 को लागू होने वाले संशोधनों के बाद अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन फ्रेमवर्क समझौते (International Solar Alliance Framework Agreement) पर हस्ताक्षर करने वाला 5 वां देश बन गया।

भारत (India) में जर्मनी के राजदूत (Ambassador of Germany) वाल्टर जे. लिंडनेर (Walter J. Lindner) ने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन फ्रेमवर्क समझौते (International Solar Alliance Framework Agreement) की हस्ताक्षरित प्रतियां विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs), समझौते के डिपॉजिटरी (depositary) के पास जमा कर दीं।

आईएसए (ISA) की सदस्यता पहले 121 देशों तक सीमित थी, जो आंशिक रूप से या पूरी तरह से उष्णकटिबंधीय के भीतर स्थित थे। इसने जर्मनी (Germany) जैसी प्रमुख सौर ऊर्जा अर्थव्यवस्थाओं (solar energy economies) को उस गठबंधन में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जिसे विदेश नीति उपकरण के रूप में तेजी से देखा जा रहा है। 

नवंबर 2015 में पेरिस (Paris) में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (United Nations Climate Change Conference ) से पहले भारत अफ्रीका शिखर सम्मेलन (India Africa Summit) और सदस्य देशों की एक बैठक में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)  द्वारा पहल शुरू की गई थी। नवंबर 2016 में अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (International Solar Alliance) के ढांचे के समझौते को माराकेश (Marrakech), मोरक्को (Morocco) में हस्ताक्षर के लिए खोला गया था।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • जर्मनी की राजधानी: बर्लिन (Berlin);
  • जर्मनी मुद्रा: यूरो (Euro);
  • जर्मनी के राष्ट्रपति: फ्रैंक-वाल्टर स्टीनमेयर (Frank-Walter Steinmeier)।

ईरान के नए राष्ट्रपति के रूप में इब्राहिम रईसी ने ली शपथ

इब्राहिम रईसी (Ebrahim Raisi) ने आधिकारिक तौर पर 05 अगस्त, 2021 को ईरान (Iran) के नए राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। उन्होंने जून में 2021 का ईरानी राष्ट्रपति चुनाव 62 प्रतिशत वोट के साथ जीता। 60 वर्षीय रायसी ने अपने चार साल के कार्यकाल की शुरुआत करने के लिए हसन रूहानी (Hassan Rouhani) का स्थान लिया। वह मार्च 2019 से ईरान के मुख्य न्यायाधीश भी हैं।

रईसी का शपथ ग्रहण समारोह ऐसे वक्त पर हुआ है, जब ईरान वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका (United States) के साथ 2015 के परमाणु समझौते को पुनर्जीवित करने के लिए अप्रत्यक्ष बातचीत में फंसा हुआ है। 

रईसी को अपने देश की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के कार्य का भी सामना करना पड़ेगा, जिसे हाल के वर्षों में पिछले अमेरिकी प्रशासन के प्रतिबंधों के “अधिकतम दबाव (maximum pressure)” अभियान द्वारा पस्त किया गया है। पश्चिम द्वारा तेहरान पर आरोपित समुद्री संदीपन की एक कड़ी के बाद क्षेत्र में तनाव भी अधिक है।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • ईरान की राजधानी: तेहरान;
  • ईरान मुद्रा: ईरानी तोमन।

पश्चिम बंगाल को चार SKOCH पुरस्कार

पश्चिम बंगाल (West Bengal) सरकार को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (Ease of Doing Business) पहल के तहत अपनी योजनाओं के लिए चार स्कॉच (SKOCH) पुरस्कार मिले हैं। राज्य योजना ‘सिलपासथी (Silpasathi)’-ऑनलाइन सिंगल विंडो पोर्टल ने प्लेटिनम पुरस्कार (platinum award) जीता, जबकि शहरी क्षेत्रों के लिए ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से ऑटो-नवीनीकरण के नामांकन प्रमाणपत्र (Auto-Renewal of Certificate of Enlistment) को स्वर्ण पुरस्कार (gold award) मिला है।

ग्रामीण क्षेत्रों (rural areas) में व्यापार लाइसेंस (trade licences) ऑनलाइन जारी करना और ई-नथिकरण (E-Nathikaran): पंजीकरण (registration), तैयारी और डीड जमा (preparation and submission of deeds) करने की ऑनलाइन प्रणाली ने दो रजत पुरस्कार जीते हैं। 

राज्य सरकार (state government) यह सुनिश्चित करेगी कि पश्चिम बंगाल (West Bengal) में व्यापार करने में आसानी देश में सबसे महत्वपूर्ण में से एक बनी रहे।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री: ममता बनर्जी (Mamata Banerjee); राज्यपाल: जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar)।

बैंकिंग

एक्सिस बैंक ने व्हाट्सएप बैंकिंग पर दस लाख ग्राहकों को पार किया

एक्सिस बैंक (Axis Bank) ने अपने व्हाट्सएप बैंकिंग चैनल (WhatsApp banking channel) पर अब तक 60 लाख की कुल अनुरोध संख्या के साथ एक मिलियन से अधिक ग्राहकों का मील का पत्थर पार कर लिया है। 

एक्सिस बैंक (Axis Bank) ने जनवरी 2021 में व्हाट्सएप पर बैंकिंग सेवाएं (banking services on WhatsApp) शुरू की थीं और तब से व्हाट्सएप बैंकिंग (WhatsApp banking) के लिए अपने ग्राहक आधार में मजबूत जैविक वृद्धि देखी गई है।

सेवा के लिए साइन अप करने के बाद, ग्राहक बचत खाते (savings account), क्रेडिट और डेबिट कार्ड (credit and debit cards), जमा और व्यक्तिगत ऋण (deposits and personal loans) के उत्पादों के बारे में पूछताछ और विवरण प्राप्त कर सकते हैं। 

गैर-वित्तीय सेवा (Non-financial service) अनुरोध भी शुरू किए जा सकते हैं, जैसे एटीएम (ATMs) का पता लगाना या क्रेडिट और डेबिट कार्ड (credit and debit cards) पर उपलब्ध तीसरे पक्ष के सौदों (third-party deals) पर अपडेट प्राप्त करना।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • एक्सिस बैंक के सीईओ: अमिताभ चौधरी (Amitabh Chaudhry);
  • एक्सिस बैंक मुख्यालय: मुंबई (Mumbai);
  • एक्सिस बैंक की स्थापना: 3 दिसंबर 1993, अहमदाबाद (Ahmedabad)।

समझौता ज्ञापन 

ICICI प्रूडेंशियल लाइफ ने UPI ऑटोपे के लिए NPCI के साथ किया समझौता

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस (ICICI Prudential Life Insurance) ने अपने ग्राहकों को यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस ऑटोपे (Unified Payments Interface Autopay) सुविधा प्रदान करने के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (National Payments Corporation of India – NPCI) के साथ करार किया है। 

यह गठजोड़ कंपनी की डिजिटलाइजेशन यात्रा (digitalisation journey) का एक और कदम है, जो ग्राहकों को पूरे पॉलिसी जीवनचक्र (policy lifecycle) में एक परेशानी मुक्त और सहज अनुभव प्रदान करता है।

जीवन बीमा पॉलिसी (life insurance policy) खरीदते समय, ग्राहक प्रीमियम के भुगतान के लिए अपने बैंक खातों को यूपीआई ऑटोपे (UPI Autopay) से लिंक कर सकते हैं।

UPI ऑटोपे (UPI Autopay) ई-जनादेश को ग्राहक अपने स्मार्टफोन का उपयोग करके कागज रहित प्रारूप में नियमित नवीनीकरण प्रीमियम भुगतान (regular renewal premium payments) करने के लिए सक्रिय कर सकते हैं।

संपर्क रहित (contactless) और घर्षण रहित (frictionless) अनुभव के कारण UPI भुगतान मोड तेजी से भुगतान का पसंदीदा मार्ग बनता जा रहा है।

ग्राहक अपने नियमित नवीनीकरण प्रीमियम भुगतान (regular renewal premium payments) करने के लिए ई-जनादेश (e-mandate) सुविधा स्थापित कर सकते हैं और अपने और अपने परिवार के लिए वित्तीय सुरक्षा (financial security) सुनिश्चित कर सकते हैं।

ग्राहक अपने UPI ऐप्स पर UPI Auotpay फीचर को एनेबल कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, इसे ई-जनादेश के माध्यम से बैंकों के लिए सक्षम किया जा सकता है।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस सीईओ: एन.एस. कन्नन (N. S. Kannan);
  • आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस की स्थापना: 2000।

बांग्लादेश के साथ आपदा प्रबंधन में समझौता ज्ञापन लागू  करेगा भारत

भारत (India) ने प्राथमिकता के आधार पर आपदा प्रबंधन (disaster management), लचीलापन (resilience) और शमन (mitigation) पर बांग्लादेश (Bangladesh) के साथ हाल ही में हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन (memorandum of understanding – MoU) के कार्यान्वयन पर जोर दिया है। बांग्लादेश (Bangladesh) ने आपदा रोधी अवसंरचना गठबंधन (Coalition for Disaster Resilient Infrastructure – CDRI) में शामिल होने के निमंत्रण को स्वीकार करने का निर्णय लिया है।

सीडीआरआई (CDRI) राष्ट्रीय सरकारों (national governments), संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों (UN agencies), बहुपक्षीय विकास बैंकों (multilateral development banks) और निजी क्षेत्र (private sector) का एक गठबंधन है जिसका उद्देश्य जलवायु और आपदा जोखिमों (climate and disaster risks) के लिए नए और मौजूदा बुनियादी ढांचे के लचीलेपन को बढ़ावा देना है।

नियुतियाँ

ज़ूलोजिकल सर्वे ऑफ इंडिया को 100 वर्षों में पहली महिला निदेशक मिली

भारत सरकार (Indian government) ने भारतीय प्राणि सर्वेक्षण (Zoological Survey of India) के निदेशक के रूप में डॉ धृति बनर्जी (Dr Dhriti Banerjee) की नियुक्ति को मंजूरी दी। वह एक विपुल वैज्ञानिक (prolific scientist) हैं, जो जन्तुभूगोल (zoogeography), वर्गिकी (taxonomy), पदविज्ञान (morphology) और मॉलिक्यूलर सिस्टमैटिक्स (molecular systematics) में शोध कर रही हैं। 

2016 में अपने शताब्दी समारोह के अवसर पर, बनर्जी ने “द ग्लोरियस 100 वूमेन्स साइंटिफिक कंट्रीब्यूशन इन जेडएसआई (The Glorious 100 Women’s Scientific Contribution in ZSI)” का सह-लेखन किया था, जिसने पशु-संबंधित समूहों के क्षेत्र में महिला वैज्ञानिकों के योगदान का वर्णन किया था।

जुलाई 1916 में स्थापित, ZSI का मुख्यालय कोलकाता (Kolkata) में है। पर्यावरण और वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (ministry of environment and forest and climate change) के तहत इसके 16 क्षेत्रीय केंद्र हैं। ZSI ने अपनी स्थापना के लगभग तीन दशक बाद 1949 में महिला वैज्ञानिकों (women scientists) को नियुक्त करना शुरू किया।

आर्थिक

RBI ने की द्विमासिक मौद्रिक नीति की घोषणा 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी द्विमासिक मौद्रिक नीति (bi-monthly monetary policy) की घोषणा की है। यह लगातार सातवीं बार है जब आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) की अध्यक्षता वाली मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy Committee – MPC) ने यथास्थिति बनाए रखी है। 

आरबीआई (RBI) ने पिछली बार 22 मई, 2020 को अपनी नीतिगत दर को एक ऑफ-पॉलिसी चक्र (off-policy cycle) में संशोधित किया था, ताकि ब्याज दर में ऐतिहासिक रूप से कटौती करके मांग को बढ़ाया जा सके। बैठक 4 अगस्त से 6 अगस्त के बीच हुई थी। शेष बैठक अक्टूबर (6 से 8); दिसंबर (6 से 8) और फरवरी (7 से 9, 2022) में होगी |

पूरा समाचार पढने के लिए यहाँ क्लिक करें 

SEBI ने भुगतान बैंकों को निवेश बैंकर के रूप में कार्य करने की अनुमति दी

सेबी (Sebi) ने भुगतान बैंकों (payments banks) को निवेश बैंकरों (investment bankers) की गतिविधियों को करने की अनुमति दी है ताकि निवेशकों (investors) को सार्वजनिक (public) और अधिकारों के मुद्दों में भाग लेने के लिए विभिन्न भुगतान रास्ते (payment avenues), बाजार नियामक (markets regulator) का उपयोग करके आसानी से पहुंच प्रदान की जा सके। 

गैर-अनुसूचित भुगतान बैंक (Non-scheduled payments banks), जिन्हें भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India – RBI) से पूर्वानुमति प्राप्त है, एक निर्गम (BTI) के लिए बैंकर के रूप में कार्य करने के लिए पात्र होंगे।

यह बीटीआई (BTI) नियमों में निर्धारित शर्तों की पूर्ति के अधीन है। इसके अलावा, बीटीआई (BTI) के रूप में पंजीकृत भुगतान बैंकों को भी स्व-प्रमाणित सिंडिकेट बैंकों (self-certified syndicate banks) के रूप में कार्य करने की अनुमति होगी, बशर्ते कि इस संबंध में सेबी (Sebi) द्वारा समय-समय पर निर्धारित मानदंडों को पूरा किया जाए। जारीकर्ता को निवेशक केवल भुगतान बैंक (payments bank) के पास निवेशक (investor) के बचत खाते (savings account) के माध्यम से किया जाएगा।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड की स्थापना: 12 अप्रैल 1992।
  • भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड मुख्यालय: मुंबई (Mumbai)।
  • भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड एजेंसी के कार्यकारी: अजय त्यागी (Ajay Tyagi)।

महत्वपूर्ण तिथियाँ 

हिरोशिमा दिवस: 6 अगस्त

हर साल 6 अगस्त को द्वितीय विश्व युद्ध (World War II) के दौरान हिरोशिमा (Hiroshima) पर गिराए गए परमाणु बम की सालगिरह का प्रतीक माना जाता है। यह भयावह घटना 6 अगस्त, 1945 को हुई थी, जब संयुक्त राज्य अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा शहर पर “लिटिल बॉय (Little Boy)” नामक एक परमाणु बम गिराया। 

यह परमाणु हमला 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध को समाप्त करने के मकसद से किया गया था। इस दिन को परमाणु ऊर्जा और परमाणु हथियारों के खतरे के बारे में शांति को बढ़ावा देने और जागरूकता फैलाने के लिए याद किया जाता है।

द्वितीय विश्व युद्ध 1939- 1945 तक चला था, जब दुनिया का पहला परमाणु बम तैनात किया गया था, जिसमें 9000 पाउंड से अधिक यूरेनियम -235 लोड किया गया था और जिसे US B-29 बॉम्बर एयरक्राफ्टएनोला गे (Enola Gay) द्वारा 6 अगस्त 1945 को जापानी शहर हिरोशिमा  पर गिराया गया था। 

यह विस्फोट इतना विशाल था कि इससे शहर की लगभग 90% आबादी खत्म कर दी थी, जिसमे 70,000 लोगों की तत्काल मृत्यु हो गई थी और बाद में विकिरण के प्रभाव के कारण लगभग 10,000 लोगों की मृत्यु हो गई।

TRIFED ने मनाया अपना 34वां स्थापना दिवस

ट्राइबल को-ऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (Tribal Co-operative Marketing Federation of India – TRIFED) ने 6 अगस्त को अपना 34वां स्थापना दिवस मनाया। ट्राइफेड (TRIFED) की स्थापना जनजातीय उत्पादों (tribal products), हस्तशिल्प (handicrafts) और गैर-इमारती वनोपज (Non-Timber Forest Produce – NTFP) दोनों के लिए विपणन सहायता के माध्यम से जनजातीय विकास (tribal development) को बढ़ावा देने के लिए की गई थी। 

ट्राइफेड (TRIFED) इस दिन को एक विशेष तरीके से, उचित प्रचार के साथ, जनजातीय क्षेत्रों (tribal areas) में व्यापार से संबंधित मुद्दों और जनजातियों (tribes) के लिए उनके उत्पादों के वाणिज्य(commerce of their products) में एक उचित सौदा सुनिश्चित करने की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाएगा। 

प्रस्तावित कार्यक्रम उन उपलब्धियों (achievements) और योगदानों (contributions) को भी मान्यता देगा जो जनजातियों (tribes) और उनके लिए काम करने वाले लोगों ने इस संबंध में की हैं। ट्राइफेड (TRIFED) की स्थापना 6 अगस्त 1987 को राष्ट्रीय स्तर की सहकारी संस्था (National level Cooperative body) के रूप में की गई थी जिसका मुख्य उद्देश्य आदिवासियों (tribals) के सामाजिक-आर्थिक विकास (socio-economic development) का था। 

ट्राइफेड (TRIFED) 6 अगस्त को अपना 34वां स्थापना दिवस मनाएगा, जो ट्राइफेड (TRIFED) की उपलब्धियों (achievements) और जनजातियों (Tribes) के साथ-साथ इसके साथ काम करने वाले लोगों के योगदान (contribution) को मान्यता देने वाला एक कार्यक्रम है।

निधन 

ओलंपियन फुटबॉलर एसएस ‘बाबू’ नारायण का निधन

दो बार के ओलंपियन शंकर सुब्रमण्यम (Shankar Subramaniam) उर्फ “बाबू (Babu)” नारायण (Nayaran) का निधन हो गया। वह 1956 और 1960 के ओलंपिक (Olympics) के दौरान भारत (India) के गोलकीपर थे। फुटबॉल (football) और बास्केटबॉल (basketball) में महाराष्ट्र (Maharashtra) का प्रतिनिधित्व करने के अलावा, नारायण (Narayan) भारत के सबसे विश्वसनीय गोलकीपरों (goalkeepers) में से एक के रूप में उभरे।

राष्ट्रीय टीम (national team) के लिए उनके दशक के लंबे करियर में 1956 के ओलंपिक (Olympics) में भारत (India) का चौथा स्थान हासिल करना और 1964 के एशियाई खेलों (Asian Games) में भारत का प्रतिनिधित्व करना भी शामिल है।

सुब्रमण्यम (Subramaniam) का जन्म केरल (Kerala) के पालक्काड़ (Palakkad) जिले में हुआ था, माटुंगा स्टूडेंट्स (Matunga Students), माटुंगा जिमखाना (Matunga Gymkhana), कैल्टेक्स और टाटा स्पोर्ट्स क्लब (Caltex and Tata Sports Club) के लिए अपनी उपस्थिति के दौरान नारायण (Narayan) मुंबई (Mumbai) के स्थानीय सर्किट में एक स्टार थे। वह 1964 में महाराष्ट्र के संतोष ट्रॉफी (Maharashtra’s Santosh Trophy) विजेता अभियान का हिस्सा थे।

विविध

CBIC ने लॉन्च किया अनुपालन सूचना पोर्टल (CIP)

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (Central Board for Indirect Taxes & Customs) ने www.cip.icegate.gov.in/CIP पर भारतीय सीमा शुल्क अनुपालन सूचना पोर्टल (Indian Customs Compliance Information Portal) लॉन्च किया।

यह पोर्टल लगभग 12,000 सीमा शुल्क टैरिफ मदों (Customs Tariff Items) के लिए सभी सीमा शुल्क प्रक्रियाओं (Customs procedures) और नियामक अनुपालन (regulatory compliance) पर जानकारी तक मुफ्त पहुंच प्रदान करता है। 

पोर्टल सभी वस्तुओं के लिए सभी आयात (import) और निर्यात (export) संबंधी आवश्यकताओं का पूरा ज्ञान प्रदान करेगा।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण:

  • केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड के अध्यक्ष: एम. अजीत कुमार (M. Ajit Kumar);
  • केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड की स्थापना: 1 जनवरी 1964।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.